बुधवार, 14 दिसंबर 2011

पुलिस महानिदेशक बृजलाल का सिटिजन चार्टर लागू

उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में पुलिस महानिदेशक कार्यालय लोकतंत्र के मुख्य स्रोत्र विधान भवन से कुछ दूरी पर शक्ति भवन के सामने सरकार की पुलिस महानिदेशक बृजलाल के सिटिजन चार्टर का वास्तविक चेहरा निम्न चित्र में दिखाई देता है-
चित्र में राजधानी लखनऊ के पुलिस अधीक्षक पूर्वी श्री विजय भूषण सिंह शक्ति भवन के सामने राज्य विधुत परिषद् चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के आन्दोलनकारियों को बूटों से रौंदते हुए
उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री महिला के साथ दलित भी हैंचतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों की स्तिथि कोई विशेष अच्छी नही होती है उनके साथ लखनऊ में अगर यह व्यवहार हो रहा है तो प्रदेश के ग्रामीण अंचलों में समाज के कमजोर वर्गों दलितों के साथ पुलिस राज्य सरकार का क्या व्यवहार होगा ?
प्रदेश के पुलिस महानिदेशक श्री बृजलाल ने अपने सीनियर अफसरों को पीछे छोड़ते हुए पुलिस महानिदेशक की कुर्सी प्राप्त करने के बाद यह कहा था कि मैंने बहुत गरीबी में पढाई लिखाई की है और व्यवस्था जनित दर्द को मै जनता हूँउन्होंने सिटिजन चार्टर को पुलिस विभाग में लागू करने की घोषणा की थी वस्तुस्तिथि इससे भी ज्यादा विकट हैयह फोटो लखनऊ के अख़बारों में प्रमुखता के साथ छपी है न तो पुलिस महानिदेशक श्री बृजलाल और न तो मुख्यमंत्री सुश्री मायावती कोई कार्यवाई करेंगे।

सुमन
लो क सं घ र्ष !

कोई टिप्पणी नहीं: