मंगलवार, 26 मार्च 2013

समाजवादी पार्टी की नीति

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कानून व्यवस्था सुधारने की बात करते हैं किन्तु उनकी पुलिस ही अपराध में लिप्त है और अपराधियों को बचाने का कार्य करती है। समाजवादी पार्टी की नीति रही है कि वह पहले अपराधियों को बचाती है और फिर उसके कद-काठी के अनुसार संसद और विधान सभा में पहुंचाती है. विधायक हो जाने पर अपराधी को प्रमुखता के साथ मंत्री पद भी दिए जाते हैं।
बाराबंकी जनपद के बहुचर्चित रियाज उर्फ़ गाँधी हत्याकांड के मुख्य अभियुक्त की गिरफ्तारी पुलिस द्वारा नहीं की जा रही है और सरकार के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन करके विवेचना में अभियुक्त को लाभ पहुँचाने की कोशिश की जा रही है। इसके पूर्व एक बार कोतवाली पर धरना प्रदर्शन किया गया था। तब कोतवाल ने आश्वासन दिया था कि पुलिस टीम गठित कर मुख्य अभियुक्त की जल्द से जल्द गिरफ्तारी की जायेगी। मुख्य आरोपी पूर्व सभासद बसपा ताज बाबा राइन को पुलिस ने आज तक गिरफ्तार नही किया है. किन्तु तत्कालीन कोतवाल निलंबित हो गए और वर्तमान कोतवाल उसी पुराने ढर्रे पर चल रहे हैं। पूर्व में मुख्यमंत्री आवास पर प्रदर्शन होना था किन्तु जिले के उच्च अधिकारीयों द्वारा गिरफ्तारी का आश्वासन दिया गया इस कारण प्रदर्शन स्थगित कर दिया गया था।
    लगता है इस केस के मुख्य अपराधी को सत्तारूढ़ दल का समर्थन प्राप्त है जिसके कारण उसकी गिरफ्तारी नही हो रही है और हो सकता है की भविष्य में समाजवादी पार्टी की सरकार में गृह राज्यमंत्री बन जाए इसके लिए प्रमुख योग्यता यह है की वह अपराध जगत में अपनी कद काठी को बढ़ा ले ?

सुमन
लो क सं घ र्ष !


1 टिप्पणी:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

समाजवादी पार्टी ने हमेशा बाहूबालियों को सहयोग कर मंत्री विधायक बनाया है,,,,,

होली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाए
Recent post : होली में.