मंगलवार, 9 अप्रैल 2013

अखिलेश सरकार की नंगई

 होलिका दहन के समय उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जनपद के राजघाट इलाके से धर्मेन्द्र मंझवार को पुलिस पकड़ ले गयी और कई दिन थाने  में रखने के बाद कचेहरी खुलने पर सिटी मजिस्ट्रेट के यहाँ धर्मेन्द्र मंझवार को नंगा कर पीटते हुए घुमाने के बाद पेश किया गया। माननीय उच्चतम न्यायलय से लेकर   अखिलेश सरकार  मूकदर्शक है। मानवाधिकार आयोग सिर्फ कागजी हैं। पुलिस की रिपोर्ट के आधार पर ही कार्य करते हैं। उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार में पुलिस निरंकुश है। कानून नाम से पुलिस को अपने लिए चिढती है और वसूली करने के लिए दूसरे को कानून बताने का कम करती है। पुलिस के इन कार्यों का खामियाजा अखिलेश सरकार को भुगतना पड़ेगा।

सुमन
लो क सं घ र्ष ! 

 

3 टिप्‍पणियां:

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…

ये तो हद हो गई इतनी बेशरम है सरकार,,!!!
recent post : भूल जाते है लोग,

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Ranjan ने कहा…

पूरी मानवता को शरमशार करने वाली घटना !