रविवार, 30 मार्च 2014

श्रीराम सेना या आतंकी सेना


                          
  मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने देश में उत्तर को दक्षिण से जोड़ा था किन्तु ब्रिटिश साम्राज्यवाद के सेवक हिन्दुत्ववादी संगठन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ व उसके अन्य आनुषांगिक संगठनों ने मर्यादा पुरुषोत्तम राम की हमेशा मर्यादा भंग की है जो अक्षम्य अपराध है। इस हिन्दुत्ववादी संगठन ने अयोध्या में ऐतिहासिक बाबरी मस्जिद को तोड़कर देश को गृह  युद्ध में झोंकने  का प्रयास किया और देश की एकता और अखण्डता को खतरे में डाला।इस बहुजातीय, बहुधर्मी देश में अगर भावनात्मक एकता न होती तो यह संगठन इस देश को भी यूगोस्लाविया बना देने में कोई कसर नही छोड़ी थी।          
         अब राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के नेताओं ने सुनियोजित साजिश कर श्री राम सेना बनायी। श्री राम सेना के प्रमुख प्रमोद मुथालिक कर्नाटक के अन्दर जगह-जगह ‘हिन्दू जन जागृति‘ समितियाॅ बनाकर उग्र भाषणबाजी कर रहे है। जिसमें वह मालेगाॅव बम विस्फोट के  आतंकियोेें की प्रशंसा में भी कसीदे पढ़ रहे है जैसे  उनकी श्री राम सेना , श्रीराम की सेना न होकर आतंकियों की सेना हो। उनकी उग्र व गैर जिम्मेदाराना भाषणबाजी से समाज में विघटन पैदा हो रहा है भगवान राम को कलंकित करने का अधिेकार किसी को नही है। लेकिन राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ जिनका हिन्दू धर्म से कोई लेना देना नहीं है वह हिन्दू देवताओं के नाम पर भोली -भाली जनता को उग्र्र हिन्दुत्व का पाठ पढा रही हैै। समय रहते ऐसे संगठनों के ऊपर तुरन्त रोक न लगायी गयी तो देश की एकता और अखण्डता को गम्भीर खतरा पैदा होगा। साम्राज्यवादियों की साजिश है कि देश को कमजोर करके पूर्व की भांति फिर इसे उपनिवेश बनाकर रखा जाये।इसके लिए उसके एजेण्ट संगठन तरह-तरह के देवताओं के नाम पर सेनायें बनाकर आतंकवादी कार्यवाहियाॅ कर रहे है। देश की  जनता को चाहिए कि साम्राज्यवादियों की साजिश को समझकर उनका मुँहतोड़ जवाब दे। झारखण्ड के जिला धनबाद में बजरंग दल के नेता उमाकान्त तिवारी ने 430 बोरिया अमोनियम नाइटेªट लूटकर जितेन्द्र सिंह के घर छिपाया था किन्तु पुलिस की मुश्तैदी से दोनो बजरंगी पकड़े गये और अमोनियम नाइटेªट बरामद हुआ। इस तरह पता चलता है कि यह संगठन भी उग्रवादी संगठन की भाँति खुले आम इस तरह की साजिशें कर रहे है।

-पवन वर्मा
लोकसंघर्ष  पत्रिका मार्च २००९से

कोई टिप्पणी नहीं: