शुक्रवार, 15 जनवरी 2016

भारतीय सेना के अतिरिक्त भी सेनायें हैं

देश में भारतीय सेना के अतिरिक्त बहुत सारी सेनायें हैं जो धर्म के नाम पर गठित की गयी हैं. उनका अलग कानून अलग संविधान है. उनका कानून, उनका संविधान, उनके संचालकों के अनुसार ही चलता है बाकी जनता को उनके कानून, उनके संविधान के सम्बन्ध में कोई जानकारी नहीं होती है. यही बात पडोसी देश पाकिस्तान में भी है. वहां पर भी धर्म आधारित सेनायें हैं जिनका अपना संविधान है और कानून है. यह मुख्य समानता है. यह सारी सेनायें कब कौनसा फरमान जारी कर दें और उनके समर्थक उस कार्य को करने के लिए अमादा हो जाएँ. इन सेनाओं के ऊपर देश का संविधान कानून लागू करना एक दुरूह कार्य है.
             मध्य प्रदेश में नयी सेना का उदय हुआ इस सेना का नाम गौ सेना है. गौ सेना ने कुशीनगर एक्सप्रेस के खडवा रेलवे स्टेशन पर ट्रेन की तलाशी लेनी शुरू कर दी और बताया कि बीफ की तलाशी ली जा रही है. एक धर्म विशेष के लोगों की पिटाई भी की गयी. मोहम्मद हुसैन और उनकी पत्नी नसीब बानो ने इसकी शिकायत जी आर पी में की और कुछ गिरफ्तारियां भी हुई हैं.
दूसरी तरफ दिल्ली स्तिथ पकिस्तान एयरलाइन्स के दफ्तर में जमकर तोड़फोड़ की गयी. यह कार्यवाई हिन्दू सेना ने की. पूरे देश में कभी श्री राम सेना, कभी कृष्ण सेना, कभी हिन्दू सेना और कभी शिव सेना और आज गौ सेना भी आ गयी. इन सेनाओं में शिव सेना सबसे बड़ी सेना है. महाराष्ट्र में सरकार की साझीदार भी शिव सेना है.
पाकिस्तान में धर्म की आड़ में बहुत सारे ताकतवर संगठन काम करते हैं जिनमें जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा, तालिबान, अलक़ाएदा व जमात-उद-दावा जैसे सैकड़ों सेनायें या संगठन हैं जो सरकार से अपने को ऊपर मानते हैं. पठानकोट हमले को लेकर पाकिस्तान ने एक बहुत बड़ी कार्रवाई की है. जैश-ए-मोहम्मद के आतंकवादी मौलाना मसूद अजहर को पाकिस्तान ने हिरासत में ले लिया है. मसूद अजहर के साथ उसके भाई रऊफ को भी हिरासत में लिया गया है. मसूद अजहर से पाकिस्तान पूछताछ कर रहा है. मसूद अजहर वो ही आतंकवादी है जिसे भारत की जेल से छुड़ाया गया था. आतंकवादियों ने एयर इंडिया के विमान का अपहरण कर लिया था. विमान छोड़ने के एवज में मसूद अजहर को छुड़ाया गया था. यह समाचार दुनिया को सुनाने के लिए प्रसारित किया गया लेकिन वहीँ पकिस्तान सरकार यह भी कह रही है कि मौलाना मसूद अजहर की गिरफ्तारी सुरक्षात्मक है. इसके पूर्व मुंबई पर हुए 26/11 के आतंकी हमले का मास्टरमाइंड और आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा के सरगना जकीउर रहमान लखवी को रावलपिंडी की अदियाला जेल से रिहा कर दिया गया था। पाकिस्तान अपने वहां नरमी बरतता है जैसे हमारे वहां कानून और संविधान न मानने वालों के प्रति नरमी बरती जाती है.
सवाल यह है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है इसलिए यहाँ यह सेनाएं कुछ-कुछ कमजोर हैं. पकिस्तान इस्लामी राष्ट्र रहा है इसलिए देश की सेना के अतिरिक्त महा सेना के जो संगठन हैं वह कई- कई देशों में अपनी कार्यवाहीयां करते रहते हैं लेकिन अगर यही स्तिथि रही तो देश के अन्दर संविधान और कानून का राज पीछे हो जायेगा और इन्ही सेनाओं की मर्जी से देश चलेगा यह सबसे बड़ा दुर्भाग्यपूर्ण दिन होगा. 

सुमन
लो क सं घ र्ष !

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शनिवार (16-01-2016) को "अब तो फेसबुक छोड़ ही दीजिये" (चर्चा अंक-2223) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
नववर्ष 2016 की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'