सोमवार, 21 मार्च 2016

मोहन भागवत क्या नकली हिन्दू हैं ?

पति कहता है कि मेरा घर संभालो सुख दो, मैं तुम्हारा पेट पालने की व्यवस्था करूंगा और तुमको सुरक्षित रखूंगा, जब तक पत्नी ऐसी है तब तक पति कांट्रैक्ट पूरी करने के लिए उसको रखता है
यह बात राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सर संघ चालक मोहन भागवत ने कहते हुए वर्तमान हिन्दू धर्म के विवाह संस्कार को  हिटलरी जामा पहना दिया. यह बहुत गंभीर बात है कि हिन्दू शास्त्रों के अनुसार विवाह जन्म और जन्मांतर से सम्बद्ध एक देवीय प्रक्रिया है. इसी वजह से सात जन्म तक विवाह संबंधों की बात कही जाती है. 
भागवत ने आगे कहा कि अगर पत्‍नी इस समझौते को पूरा नहीं करती है तो पति उसे छोड़ सकता है और अगर किसी कारण पति कांट्रैक्ट पूरा नहीं कर सकता तो पत्नी उसे छोड़ सकती है. यह बात भी हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के विपरीत है इसीलिए तलाक की व्यवस्था नहीं है.
यह सब बातें जो मोहन भागवत कह रहे हैं वह धार्मिक मान्यताओं के विपरीत है और यह सब बातें साबित करती हैं कि मोहन भगवत का कोई सम्बन्ध हिन्दू धर्म से नहीं है और यह व्यक्ति नकली हिन्दू है.

सुमन
लो क सं घ र्ष !

1 टिप्पणी:

रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल बुधवार (23-03-2016) को "होली आयी है" (चर्चा अंक - 2290) पर भी होगी।
--
सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
रंगों के महापर्व होली की
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'