सोमवार, 19 दिसंबर 2016

नोटबंदी : कॉर्पोरेट सेक्टर को फायदा पहुँचाना

बाराबंकी। नोटबन्दी योजना कारपोरेट सेक्टर को फायदा पहुंचाने के लिए एक हत्यारी योजना है। हजारो लोग बैंक की लाईन में या पैसे के अभाव में चिकित्सा सुविधा न मिलने के कारण मर चुके हैं।
    यह उद्गार भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा आयोजित टाण्डा निजामपुर में जनसभा को सम्बोधित करते हुए जिला सह सचिव रणधीर सिंह सुमन ने कहा कि काला धन बरामद करना एक बहाना है वास्तव में अम्बानी के जियो सिम और चीनी कम्पनी अलीबाबा के मालिक जैक मा को फायदा पहुंचाना है।
    जन सभा को सम्बोधित करते हुए भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के जिला सचिव बृज मोहन वर्मा ने कहा कि नोट बन्दी के कारण किसानों के आलू, टमाटर, धान की कोई कीमत न रही और किसान बरबाद हो चुका है। मोदी सरकार के आने के बाद हजारों किसान आत्महत्या कर चुके हैं। जनता की तकलीफों को कोई ध्यान देने के लिए तैयार नही है।
    पार्टी के नेता विनोद कुमार यादव ने कहा कि जनपद के हजारों नौजवान जो देश के विभिन्न हिस्सों में काम करते थे उनकी नौकरियां चली गयी हैं और अपने घरों में वापस लौट आये हैं।
    किसान सभा के जिला अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि नोट बन्दी योजना से देश की जनता का रुपया बैंकों में रोक दिया है जिसका कोई अधिकार सरकार को नही है सरकार स्वयं काला धन को सफेद धन बना रही है। सरकार जनता के धन को रोक कर जनता को पंगु बना दिया है।
    सभा का संचालन रामू ने किया तथा अध्यक्षता डा0 इन्द्रपाल चैहान ने किया।

कोई टिप्पणी नहीं: