शुक्रवार, 5 अगस्त 2011

दरोगा बनने की चाह में सिपाहियों की मौत

उत्तर प्रदेश पुलिस में पद प्रोन्नति हेतु पुलिस विभाग सिपाहियों का टेस्ट चल रहा है जिसमें 10 किलोमीटर दौड़ आवश्यक हैकल सीतापुर जनपद में 10 किलोमीटर की दौड़ में दौड़ रहे सिपाही में तीन सिपाही बेहोश हो गए तुरंत मेडिकल ऐड देने के बाद भी दो सिपाहियों का जीवन बचाया नहीं जा सकादरोगा भर्ती में आजमगढ़ सहित कई जिलों में कई सिपाहियों की मौत हो चुकी है जब सरकार के समक्ष इस समस्या को उठाया गया तो .डी.जी कानून व्यवस्था बृजलाल ने कहा की 10 किलोमीटर की दौड़ को काम नहीं किया जा सकता है
उत्तर प्रदेश में पुलिस विभाग में परेड, भाग दौड़ की कमी हो गयी है अधिकतर सिपाही निरीक्षक अपनी कार्य क्षमता सी अधिक भाग दौड़ के कारण विभिन्न बिमारियों सी ग्रसित हो गए हैंपुलिस विभाग में 24 घंटे लगातार भी ड्यूटी ली जाती है जिसका कोई कंपनसेशन नहीं दिया जाता है
आज जरूरत इस बात की है कि पुलिस विभाग में रिक्त पदों पर अविलम्ब भर्ती की जाएउन्हें बेहतर प्रशिक्षण दिया जाए अधिकारियों कर्मचारियों की भी नियमित परेड कराई जाएलेकिन साधनों के अभाव में यह सब कार्य संभव नहीं हो पा रहे हैं जवानों को घटिया स्तर का प्रशिक्षण दिया जा रहा है जो चिंतनीय हैसिपाहियों द्वारा दौड़ में बेहोश होकर गिर जाना और उसके बाद मृत्यु होना विभाग के नैतिक बल की कमी पैदा करेगी और जवानो का मनोबल भी गिरेगा

सुमन
लो क सं घ र्ष !